वीणावादिनी वर दे (कविता) : कक्षा 8 प्रज्ञा पाठ 1

up board solutions class 8

Solution for SCERT up board textbook कक्षा 8 मंजरी ( प्रज्ञा ) पाठ 1 हिन्दी solution hindi pdf, वीणावादिनी वर दे कविता, कवि – सूर्यकांत त्रिपाठी निराला | If you have query regarding Class 8 Manjari “Pragya” Chapter 1 Veena vadini var de, please drop a comment below.

वीणावादिनी वर दे (Veena Vadini var de)

Exercise ( अभ्यास )
विचार और कल्पना :

इस कविता में कवि द्वारा माँ सरस्वती से भारत और संसार के लिए अनेक वरदान मांगे गए हैं | आप अपने विद्यालय के लिए क्या-क्या वरदान माँगना चाहेंगे –

उत्तर – हम वरदान मांगेंगे की हमारा विद्यालय , शिक्षा का सबसे अच्छा केंद्र बने, प्रसिद्धि प्राप्त करे और निरंतर प्रगति करे |

कविता से :

प्रश्न ( 1 ) : कविता में भारत के लिए क्या वरदान माँगा गया है ?

उत्तर – कविता में भारत के लोगों में  स्वतंत्रता की भावना भरने , लोगों के ह्रदय से अज्ञानता रुपी अन्धकार को दूर करने और सम्पूर्ण जग के कल्याण का वरदान माँगा गया है |

प्रश्न ( 2 ) : तालिका के खण्ड ‘क’ और खण्ड ‘ख’ से शब्द चुनकर शब्द-युग्म बनाइए –

उत्तर –    ‘ क ‘                         ‘ ख ‘

       वीणा                          वादिनी 

      स्वतन्त्र                          रव

       अन्ध                            उर 

       विहग                          वृन्द 

       ताल                          छंद रव 

       बंधन                           स्तर 

       अमृत                         मन्त्र 

       जलद                       मन्द्र रव 

प्रश्न ( 3 ) : पंक्तियों का भाव स्पष्ट कीजिए –

( क ) काट अंध-उर के बंधन-स्तर , बहा जननी , ज्योतिर्मय निर्झर |

उत्तर – प्रस्तुत पंक्ति में कवि का भाव है कि हे माता आप अज्ञानी लोगों के ह्रदय से अज्ञानता रुपी अन्धकार हटाकर उनमें ज्ञान रुपी प्रकाश फैला दो |

( ख ) कलुष-भेद तम-हर , प्रकाश भर , जगमग कर दे |

उत्तर – हे माँ लोगों के मन से इर्ष्या , द्वेष रुपी अन्धकार को दूर करो और ज्ञान के प्रकाश से सारे संसार को रोशन कर दो |

( ग ) नव गति , नव लय , ताल-छंद नव , नवल कंठ , नव जलद – मन्द्ररव |

उत्तर – कवि कहता है हे माँ आप हम भारतवासियों को नयी चाल, नयी लय ,नए ताल और नए स्वर देकर बादल के समान गंभीर ध्वनि प्रदान करो |

भाषा की बात :

प्रश्न (1 ) : कविता में आये ‘ वर दे ‘ , ‘ भर दे’ की तरह अन्य तुकान्त शब्दों को लिखिए |

उत्तर – कर दे ! , स्वर दे !

प्रश्न (2) : ज्योति: + मय = ज्योतिर्मय , नि: + झर = निर्झर | इन शब्दों में विसर्ग का रेफ हुआ है | यह विसर्ग संधि है | इसी प्रकार के दो शब्द लिखिए तथा उनका संधि विच्छेद कीजिए |

उत्तर – अंत: + गत = अंतर्गत 

             नि: + गुण = निर्गुण  

प्रश्न (3) : विभक्ति को हटाकर शब्दों के मेल से बनने वाला शब्द समास कहलाता है | ‘ वीणा-वादिनि का अर्थ है ‘ वीणा को बजाने वाली ‘ अर्थात सरस्वती | यह बहुब्रीहि समास का उदाहरण है | इस प्रकार गजानन पीताम्बर , चतुरानन शब्दों में भी बहुब्रीहि समास है | इसका विग्रह कीजिए |

उत्तरगजानन = गज ( हाथी ) के समान सिर है जिसका अर्थात गणेश 

पीताम्बर = पीले हैं अम्बर जिसके अर्थात विष्णु 

चतुरानन = चार हैं आनन ( सिर ) जिसके अर्थात ब्रह्मा 

प्रश्न (4) : ‘नवगति’ में ‘नव’ गुणवाचक विशेषण है , यह गति , शब्द की विशेषता बताता है | कविता में ‘नव’ अन्य किन शब्दों के विशेषण के रूप में आया है , लिखिए |

उत्तर – कविता में नव शब्द कई शब्द की विशेषता बताता है जैसे – ‘लय’ , ‘ताल’ , ‘कंठ’ , ‘जलद ‘ , ‘नभ’ , ‘विहग’ ‘पर’ और ‘स्वर’ |

RELATED POSTS :

MasterJEE Online Solutions for Class-8 Manjari Chapter-1 ,  . If you have any suggestions, please send to us as your suggestions are very important to us.

CONTACT US :
IMPORTANT LINKS :
RECENT POSTS :

This section has a detailed solution for all SCERT UTADAR PRADESH textbooks of class 1, class 2, class 3, class 4, class 5, class 6, class 7 and class 8, along with PDFs of all primary and junior textbooks of classes . Free downloads and materials related to various competitive exams are available.

error: Content is protected !!